directorate of revenue intelligence

Daily News

राजस्व खुफिया निदेशालय

05 Dec, 2022

चर्चा में क्यों ?

राजस्व खुफिया निदेशालय (DRI) इस वर्ष अपना 65वां स्थापना दिवस मना रहा है।

मुख्य बिंदु :-

  • राजस्व खुफिया निदेशालय (DRI) इस वर्ष 5-6 दिसंबर, 2022 को अपना 65वां स्थापना दिवस मना रहा है।
  • भारत सरकार के अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) के अंतर्गत DRI तस्करी विरोधी मामलों पर प्रमुख खुफिया और प्रवर्तन एजेंसी है।
  • इसकी स्थापना 4 दिसंबर 1957 को हुई थी। नई दिल्ली में अपने मुख्यालय के साथ DRI की 12 मंडल इकाइयां, 35 क्षेत्रीय इकाइयां और 15 उप-क्षेत्रीय इकाइयां हैं, जिनमें लगभग 800 अधिकारी कार्यरत हैं।
  • छह दशकों से अधिक समय से, DRI भारत और विदेश में अपनी उपस्थिति से मादक और नशीले पदार्थ, सोना, हीरा, कीमती धातु, वन्यजीव वस्तुओं, सिगरेट, हथियारों, गोला-बारूद और विस्फोटक, नकली करेंसी नोट, विदेशी मुद्रा, एससीओएमईटी वस्तुओं, खतरनाक और पर्यावरण की दृष्टि से संवेदनशील सामग्री, प्राचीन वस्तुएँ आदि की तस्करी के मामलों को रोकने और उनका पता लगाने संबंधी अपने कार्यादेश को पूरा कर रहा है तथा तस्करी से जुड़े संगठित अपराध समूहों के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई कर रहा है।
  • DRI वाणिज्यिक धोखाधड़ी और सीमा शुल्क चोरी के पता लगाने का भी कार्य करता है।
  • DRI विभिन्न देशों के साथ किये गए सीमा शुल्क पारस्परिक सहायता समझौतों के तहत अंतरराष्ट्रीय सीमा शुल्क सहयोग में भी सबसे आगे रहा है, जहां सूचना विनिमय और अन्य सीमा शुल्क प्रशासनों के सर्वोत्तम तौर-तरीकों को सीखने पर जोर दिया जाता है।
  • तदनुसार, DRI अपने स्थापना दिवस पर क्षेत्रीय सीमा शुल्क प्रवर्तन बैठक (आरसीईएम) आयोजित कर रहा है, ताकि प्रवर्तन संबंधी मुद्दों के लिए भागीदार सीमा शुल्क संगठनों और विश्व सीमा शुल्क संगठन, इंटरपोल जैसी अंतर्राष्ट्रीय एजेंसियों के साथ प्रभावी रूप से जुड़ सके।
  • इस वर्ष, कार्यक्रम के लिए विश्व सीमा शुल्क संगठन (डब्ल्यूसीओ), इंटरपोल, ड्रग्स और अपराध पर संयुक्त राष्ट्र कार्यालय (यूएनओडीसी) और क्षेत्रीय खुफिया संपर्क कार्यालय - एशिया प्रशांत (आरआईएलओ एपी) जैसे अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के साथ-साथ एशिया-प्रशांत क्षेत्र के 22 सीमा शुल्क प्रशासनों को आमंत्रित किया गया है।
  • इस अवसर पर केंद्रीय वित्त और कॉर्पोरेट कार्य मंत्री द्वारा "भारत में तस्करी रिपोर्ट 2021-22" का नवीन संस्करण भी जारी किया जाएगा।
  • यह रिपोर्ट तस्करी विरोधी और वाणिज्यिक धोखाधड़ी के क्षेत्र के रुझानों और पिछले वित्त वर्ष में DRI के प्रदर्शन और अनुभव का वर्णन करती है।
  • DRI दिवस, अतीत की उपलब्धियों को सम्मान व महत्त्व देने तथा सीबीआईसी और DRI के युवा अधिकारियों को प्रेरित करने का दिन है एवं यह क्षेत्रीय देशों के सीमा शुल्क प्रशासनों, महत्वपूर्ण क्षेत्रीय प्रशासनों तथा व्यापार भागीदारों के साथ बातचीत और विचार-विमर्श करने का भी अवसर प्रदान करता है, जिससे इस क्षेत्र के सीमा शुल्क संबंधी मामलों में भारत की भूमिका मजबूत होती है।

राजस्व खुफिया निदेशालय (DRI) के बारे में-

  • राजस्व आसूचना निदेशालय या राजस्व खुफिया निदेशालय (DRI), एक भारतीय खुफिया एजेंसी है।
  • यह भारत की प्रमुख तस्करी विरोधी खुफिया, जांच और संचालन एजेंसी है।
  • इसका गठन 4 दिसंबर, 1957 को किया गया था।
  • राजस्व खुफिया निदेशालय, भारत सरकार के वित्त मंत्रालय, राजस्व विभाग में केंद्रीय अप्रत्यक्ष करों और सीमा शुल्क के तहत कार्य करता है।
  • इसकी अध्यक्षता भारत सरकार के विशेष सचिव रैंक के महानिदेशक करते हैं।

कार्य -

  • DRI सोना, मादक पदार्थों, नकली भारतीय मुद्रा, प्राचीन वस्तुओं, वन्यजीवों और पर्यावरण उत्पादों जैसे निषिध्द की तस्करी को रोककर भारत की राष्ट्रीय और आर्थिक सुरक्षा को सुरक्षित करने का काम करता है।
  • इसके अलावा, यह काले धन, वाणिज्यिक धोखाधड़ी और व्यापार आधारित काले धन के व्यापार के प्रसार को रोकने के लिए भी काम करता है।
  • DRI 50 से अधिक अन्य क़ानूनों के अलावा सीमा शुल्क अधिनियम के प्रावधानों को लागू करता है, जिसमें एनडीपीएस अधिनियम, शस्त्र अधिनियम, डब्ल्यूएमडीपी आदि शामिल हैं।
  • DRI कैबिनेट सचिवालय के नेशनल अथॉरिटी केमिकल वेपन्स कन्वेंशन, काले धन पर विशेष जांच दल, शेल कंपनियों पर टास्क फोर्स, राष्ट्रीय सुरक्षा पर मल्टी एजेंसी सेंटर (MAC), गृह मंत्रालय/NIA के विशेष विंगों के साथ-साथ वामपंथी उग्रवाद वित्तपोशण, आतंकवाद वित्तपोषण, तटीय सुरक्षा, नकली भारतीय मुद्रा आदि पर बने विभिन्न अंतर-मंत्रालयी समितियां का भी एक हिस्सा है।

Source - PIB

Nirman IAS (Surjeet Singh)

Current Affairs Author